नई दिल्ली । भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अर्जेंटिना के राष्ट्रपति मोरिसियो मैक्री ने सोमवार को विभिन्न क्षेत्रों में १० मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टेंडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। दोनों देशों के बीच आईसीटी, परमाणु ऊर्जा और कृषि सहित विभिन्न क्षेत्रों में १० सहमति पत्रों को अंतिम रूप दिया। दोनों नेताओं ने बातचीत के बाद समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इसके बाद दोनों नेताओं ने संयुक्त बयान जारी किया। 
पीएम मोदी ने संयुक्त बयान में पुलवामा में हुए आतंकी हमले का जिक्र करते हुए कहा, 'मैं और राष्ट्रपति मोरिसियो मैक्री इस बात पर सहमत हुं, कि आतंकवाद वैश्विक शांति और स्थिरता के लिए बहुत बड़ा खतरा है। पुलवामा (जम्मू-कश्मीर) में हुए क्रूर आतंकवादी हमला यह साबित करता है कि बातचीत का समय बीत चुका है। अब पूरी दुनिया को आतंकवाद और उसके समर्थकों के खिलाफ एकजुट होना पड़ेगा और उसके खिलाफ सख्त कदम उठाने पड़ेंगे। 
पीएम ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने से हिचकना भी एक तरह से आतंकवाद को बढ़ावा देना है। जी२० देशों का हिस्सा होने के नाते यह भी महत्वपूर्ण है कि हम हैम्बर्ग लीडर्स स्टेटमेंट के ११ बिंदु एजेंडे को लागू करें। भारत और अर्जेंटिना आज आतंकवाद पर एक विशेष घोषणा जारी करेंगे। 
अर्जेंटिना के राष्ट्रपति मैक्री ने कहा, 'मैं कुछ दिन पहले हुए क्रूर हमले (पुलवामा) के पीड़ितों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करना चाहता हूं। हम तरह के आतंकी हमले की निंदा करते हैं। मुझे खुशी है कि मैं मानव जाति पर आए इस संकट से लड़ने के लिए मिलकर काम करने में सक्षम हूं।'
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति मैक्री के साथ उनकी यह पांचवी मुलाकात दोनों देशों के बीच आपसी संबंधों की तेज रफ्तार और बढ़ते महत्व को दर्शाती है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों ने यह साबित कर दिया है कि उनके बीच १५,००० किलोमीटर की दूरी एक संख्या मात्र है। मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति मैक्री की यह यात्रा विशेष वर्ष में हो रही है। दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंधों की स्थापना का यह ७०वां वर्ष है।
पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देशों ने अपने साझा मूल्यों और हितों को देखते हुए और शांति, स्थिरता, आर्थिक प्रगति तथा समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए, अपने संबंधों को सामरिक सहयोग के स्तर का बनाने का निणNय लिया है।' मोदी ने कहा कि अंतरिक्ष और परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग के क्षेत्र में हमारा सहयोग लगातार बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि रक्षा सहयोग के संबंध में आज जिस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुए हैं, वह रक्षा क्षेत्र में हमारे सहयोग को एक नया स्वरुप देगा। 
पीएम ने कहा कि भारत और अर्जेंटीना कई मायनों में एक दूसरे के पूरक हैं। हमारा यह प्रयास है कि आपसी हित के लिए इनका पूरा लाभ उठाया जाए। उन्होंने कहा कि आज दोनों देशों ने अपने वाणिज्यिक संबंधों को बढ़ाने के लिए विशिष्ट तरीकों की पहचान की है। उन्हें खुशी है कि राष्ट्रपति मैक्री के साथ अर्जेंटीना की अनेक महत्वपूर्ण कंपनियों के प्रतिनिधि आए हैं। इससे पहले अर्जेन्टीना के राष्ट्रपति मैक्री का आज सुबह राष्ट्रपति भवन में पारंपरिक स्वागत किया गया। इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद थे।