नई दिल्ली । केंद्र सरकार ने 19 नवंबर को तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस ले लिया। पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन में इसकी घोषणा की। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इसे किसानों की जीत बताया इसके अलावा उन्होंने जनवरी में पोस्ट किया अपने एक वीडियो दोबारा शेयर किया जिसमें उन्होंने कहा था, "मेरे शब्दों को लिखकर रख लें। सरकार को ये कानून वापस लेने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।' 4 जनवरी को राहुल गांधी ने आंदोलन कर रहे किसानों का समर्थन करते हुए एक वीडियो ट्वीट किया था। “हमारे किसान जो कर रहे हैं उस पर मुझे बहुत गर्व है और मैं किसानों का पूरा समर्थन करता हूं और मैं उनके साथ खड़ा रहूंगा। मेरी बात मानो, मुझसे लिखकर ले लो, ये कानून... सरकार इन्हें वापस लेने पर मजबूर हो जाएगी।" राहुल गांधी ने यह वीडियो फिर से रिट्वीट करते हुए लिखा, "याद कीजिए मैंने क्या कहा था इसके अलावा, राहुल गांधी ने पीएम मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर कटाक्ष किया और किसानों को बधाई देते हुए कहा, देश के किसानों द्वारा सत्याग्रह ने (केंद्र के) अहंकार को तोड़ा है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को घोषणा की कि केंद्र उन तीन विवादास्पद कानूनों को रद्द कर देगा जो पिछले साल सितंबर में संसद में पारित किए गए थे। पीएम मोदी ने माफी मांगी और कहा कि सरकार कृषि कानूनों पर "किसानों के एक वर्ग को समझाने में विफल रही"। उन्होंने कहा कि इस महीने के संसद सत्र के दौरान तीन विवादास्पद कानूनों को निरस्त कर दिया जाएगा।