Wednesday, 24 January 2018, 11:19 AM

पर्यटन

कैलाश मानसरोवर यात्रा पर मौसम की मनमानी

Updated on 18 June, 2015, 11:46
देहरादून। पवित्र कैलाश मानसरोवर यात्रा 08 जून से 09 सितंबर तक जारी रहेगी। इस वर्ष यात्रा में दो रुटों यानी उत्तराखंड में लिपुलेख दर्रा और सिक्किम नाथूला दर्रा होकर जारी है। वहीं, भारतीय मौसम विज्ञान प्रभाग ने कहा है कि मानसून क्षेत्र में होने वाली उथल-पुथल के कारण जून के... आगे पढ़े

एक ऐसी जगह जहां हर मौसम में की जा सकती है सैर!

Updated on 15 June, 2015, 14:00
हर बार छुट्टियों में सैर का ख्याल आते ही लोगों के जेहन में शिमला,मसूरी,नैनीताल की तस्वीर ही उभर कर आती है..ऐसा इसलिए कि छुट्टियों में पहाड़ की सैर का लुत्फ उठाने के लिए मध्यम-वर्गीय परिवारों को वक्त और बजट के लिहाज से कोई और विकल्प सूझता ही नहीं..जबकि ऐसा नहीं... आगे पढ़े

ये हैं विश्व के सबसे प्राचीन मंदिर, यहां हैं प्रमाण

Updated on 11 June, 2015, 9:15
ईश्वर हर जगह मौजूद है। इसके प्रमाण हैं। ये प्रमाण ही ईश्वर पर आस्था की बुनियाद कायम करते हैं। हमारे वेदों में ईश्वर का उल्लेख मिलता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार वेद सबसे प्राचीन ग्रंथ माने गए हैं, इनमें ईश्वर का उल्लेख होना, ईश्वर की प्रमाणिकता और उनकी प्राचीनता को सिद्ध... आगे पढ़े

हसीन वादियों में देव संस्कृति के दर्शन

Updated on 15 May, 2015, 12:36
कुल्लू। जिला मुख्यालय से आनी की दूरी 105 किलोमीटर है। किसी भी निजी वाहन या बस के माध्यम से आनी पहुंच सकते हैं। रास्ते में औट, लारजी झील, बंजार, सोझा, जीभी, जलोड़ी जोत, खनाग व शमशर आदि स्टेशन आते हैं। कुल्लू सै औट तक के 25 किलोमीटर का सफर एनएच-21... आगे पढ़े

विदेशी पर्यटक करीब से देख सकेंगे बैगा संस्कृृति

Updated on 25 April, 2015, 12:56
बालाघाट । कान्हा की वादियों के नैसर्गिक सौंदर्य का दीदार करने आए विदेशी पर्यटक बैहर में बैगाओं की संस्कृृति और परंपरगत खेलों को भी नजदीक से देख सकेंगे। बैहर खेल मैदान में 4 अप्रैल से शुरू हो रहे दो दिवसीय बैगा ओलिंपिक में आसपास के जिलों के साथ अन्य राज्यों... आगे पढ़े

सैर हेरिटेज की

Updated on 19 April, 2015, 12:59
दोस्तो, घूमना लर्निंग का बेहतरीन प्रॉसेस माना जाता है।... तो अगले महीने से शुरू हो रहे समर वैकेशन में क्यों न ऐसे रोमांचक डेस्टिनेशंस की प्लानिंग करें, जहां देखने जानने को बहुत कुछ हो। वल्र्ड हेरिटेज डे (18 अप्रैल) के मौके पर जानें यूनेस्को की प्राकृतिक विरासत में शामिल भारत... आगे पढ़े

निकल रहे हैं ताज के नगीने

Updated on 15 April, 2015, 12:13
आगरा। अद्भुत पच्चीकारी और दीवाल में जड़े खूबसूरत नगीने। ताज को इतना खूबसूरत बनाते हैं कि दुनिया भर के सैलानी यहां बरबस खिंचे चले आते हैं। यह खासियत धीरे-धीरे खत्म हो रही है। पच्चीकारी नष्ट हो रही है और नगीने उखड़ गए हैं। संगमरमर के पत्थर भी चटके हैं। मगर,... आगे पढ़े

सारनाथ अब आदर्श स्मारक

Updated on 3 April, 2015, 12:32
वाराणसी। सारनाथ अब आदर्श स्मारक की श्रेणी में आ गया है। भारत सरकार ने देश के 25 प्राचीन स्थानों आदर्श स्मारक घोषित किया है। इनमें एक सारनाथ स्थित प्राचीन स्मारक भी है। पर्यटन के क्षेत्र में इससे जहां सारनाथ का अंतरराष्ट्रीय महत्व और बढ़ेगा वहीं विश्व के कोने-कोने से आने... आगे पढ़े

कैलास मानसरोवर यात्रा 8 जून से शुरू

Updated on 31 March, 2015, 7:40
उत्तराखंड। कैलास यात्रा आठ जून से शुरू होगी। इस बार कुल 18 दल कैलास मानसरोवर के दर्शन के लिए जाएंगे और हर दल में 60-60 यात्री रहेंगे। यात्रा का समापन नौ सितंबर को होगा। पहला जत्था 12 जून को पहुचेगा काठगोदाम। 18 जत्थे जायेंगे। सिक्किम के नाथुला से जायेंगे 5... आगे पढ़े

दिल्ली के दिल में हैं यह अविस्मरणीय मंदिर

Updated on 14 March, 2015, 8:51
भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर माना जाता है। यह मंदिर अपनी भव्यता के लिए प्रसिद्ध है। यही वजह है कि यह मंदिर गिनिज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स में भी शामिल है। इस मंदिर का परिसर लगभग 100 एकड़ भूमि में... आगे पढ़े

जयपुर के अनोखे मंदिर

Updated on 8 February, 2015, 8:09
राजस्थान के जयपुर के प्रसिद्ध मोती डूंगरी, बिरला मंदिर और शिव मंदिर का गेट खुलने का भक्त एक साल तक इंतजार करते हैं। मोती डूंगरी किले के भीतर एकलिंगेश्वर महादेव मंदिर है, जो की जयपुर राज परिवार का निजी मंदिर है। यह मंदिर केवल महाशिवरात्रि के दिन ही खुलता है। जयपुर के... आगे पढ़े

झुंझुनूं में दरगाह जहां भरता है जन्माष्टमी का मेला

Updated on 31 January, 2015, 9:10
झुंझुनूं। राजस्थान के शेखावाटी अंचल में एक दरगाह ऎसी है जहां भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के मौके पर मेला भरता है। झुंझुनूं जिले के नरहड कस्बे में स्थित पवित्र हाजीब शक्करबार शाह की दरगाह आज भी कौमी एकता की जीवन्त मिसाल बनी हुई है जहां सभी धर्मो के लोगों को... आगे पढ़े

पर्यटकों को मोह रहा घना का सौन्दर्य

Updated on 24 January, 2015, 12:30
भरतपुर। शीत ऋतु के शबाब पर होने के साथ ही केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में पक्षियों को देखने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटक यहां पहुंच रहे हैं। उद्यान में इन दिनों स्थानीय व विदेशी पक्षी प्रवास कर रहे हैं। ये पक्षी मध्य एशिया, चीन व साइबेरिया से यहां पहुंचे हैं।... आगे पढ़े

चमत्कारिक भूतेश्वर नाथ: हर साल बढ़ती है इस शिवलिंग की लम्बाई

Updated on 17 January, 2015, 12:33
छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले के मरौदा गांव में घने जंगलों बीच एक प्राकृतिक शिवलिंग है जो की भूतेश्वर नाथ के नाम से प्रसिद्ध है। यह विश्व का सबसे बड़ा प्राकृतिक शिवलिंग है। सबसे बड़ी आश्चर्य की बात यह है की यह शिवलिंग अपने आप बड़ा और मोटा होता जा रहा... आगे पढ़े

आओ बचाएं अपनी विरासत

Updated on 16 January, 2015, 15:08
विश्व के सांस्कृतिक-ऐतिहासिक स्थलों को विरासतों के रूप में संरक्षित रखने के लिए यूनेस्को द्वारा हर साल 18 अप्रैल को 'व‌र्ल्ड हेरिटेज डे' मनाया जाता है। विरासतों को सुरक्षित रखने के लिए क्यों जरूरी है जागरूकता, आओ जानते हैं.. व‌र्ल्ड हेरिटेज डे की शुरुआत संरक्षित स्थलों पर जागरूकता के लिए सांस्कृतिक-ऐतिहासिक एवं... आगे पढ़े

ये हैं अनोखे धाम

Updated on 13 January, 2015, 12:52
प्रसन्न योग आंजनेयर मंदिर अहमदाबाद की छावनी परिसर में कैम्प हनुमान मंदिर सैकड़ों वर्ष पुराना मंदिर है। इसे भारत के प्रमुख हनुमान मंदिरों में माना जाता है। श्री पंचमुख आंजनेयर स्वामी जी तमिलनाडु के कुम्बकोनम नामक स्थान पर पंचमुखी आंजनेयर स्वामी (हनुमान ) का बहुत ही मनभावन मठ है। यहां पर हनुमान जी... आगे पढ़े

बाघों की दहाड़ से फिर गूंजने लगे जंगल

Updated on 13 January, 2015, 9:47
जयपुर। बाघ एक बार फिर भारत के जंगलों की शान बन रहे हैं। पिछले साल टाइगर प्रोजेक्ट्स पर सर्वेक्षण के नतीजे बाघों की संख्या बढ़ाने के लिए उत्साहवर्द्धक रहे हैं। 2006 में जहां देश में बाघों की संख्या 1400 रह गई थी, वहीं अब यह करीब 1800 पहुंच गई है। इसमें... आगे पढ़े

सारनाथ में ऐतिहासिक व राष्ट्रीय धरोहर को घेरा गया शीशे से

Updated on 9 January, 2015, 9:50
वाराणसी। सम्राट अशोक की ऐतिहासिक व राष्ट्रीय धरोहर अशोक की लाट के संरक्षण की कवायद पूरी कर ली गई है। काशी के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल व बौद्ध धर्मावलंबियों के आस्था के केंद्र सारनाथ के खंडहर में स्थित इस लाट के खंड को अब चारों ओर से शीशे के द्वारा सुरक्षित... आगे पढ़े

अंतर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव की रंगारंग शुरूआत

Updated on 8 January, 2015, 9:21
बीकानेर। बीकानेर में दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय उत्सव की रविवार को रंगारंग शुरूआत हुई। कार्यक्रम के प्रारंभ में जूनागढ़ से भव्य शोभा यात्रा निकाली गई,जिसमें विभिन्न राज्यों के लोक कलाकारों सहित ऊंट,बैंड और राजस्थानी पर परंपरागत वेशभूषा में युवतियां और युवकों ने अलग ही छटा बिखेरी। शोभा यात्रा डॉ. करणी सिंह स्टेडियम में... आगे पढ़े

मध्‍य प्रदेश में अभी है कई गुमनाम पर्यटक स्थल

Updated on 6 January, 2015, 9:38
छिंदवाड़ा। पर्यटन के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कार पाने वाले मध्यप्रदेश में अभी भी कई ऐसे स्थान हैं जो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के पर्यटक स्थलों के रूप में विकसित हो सकते हैं। विशेषज्ञ इस बात को लेकर उत्साहित हैं कि वर्षों बाद प्रदेश में पर्यटन को लेकर ध्यान दिया जा... आगे पढ़े

वैष्णो देवी की यात्रा

Updated on 1 January, 2015, 8:42
कहते हैं पहाड़ों वाली माता वैष्णो देवी सबकी मुरादें पूरी करती हैं। उसके दरबार में जो कोई सच्चे दिल से जाता है, उसकी हर मुराद पूरी होती है। ऐसा ही सच्चा दरबार है- माता वैष्णो देवी का। माता का बुलावा आने पर भक्त किसी न किसी बहाने से उसके दरबार पहुँच... आगे पढ़े

महाराजा लाईब्रेरी: देख सकते हैं अकबर की लिखवाई महाभारत

Updated on 28 December, 2014, 9:31
जयपुर। कहते हैं कि टीवी और इंटरनेट के जमाने में लोगों के पास इतना समय नहीं होता कि वे समय निकाल कर कुछ पढ़ सकें, लेकिन ऎसा नहीं है। लोग अब भी अपनी भागदौड़ भरी जिंदगी के बावजूद पढ़ने का समय निकाल लेते हैं। ऎसी ही एक जगह है, जयपुर के... आगे पढ़े

पर्यटकों का पसंदीदा स्थान होगा छग - अग्रवाल

Updated on 23 December, 2014, 9:05
छत्तीसगढ़ को अपने विहंगम प्राकृतिक सौंदर्य, वन्य जीवन, स्मारकों और आदिवासी मिश्रित पारंपरिक समृद्ध संस्कृति धरोहरों पर गर्व है। समुद्री किनारों को छोड़कर हमारे पास पर्यटन के लिए सब कुछ है। भारत का सबसे बड़ा झरना (बस्तर का चित्रकोट जलप्रपात), दक्षिण अमेरिका के अमेजोन के बाद दूसरे सबसे घने जंगल,... आगे पढ़े

जयपुर का "कुतुबमीनार", जिसके शिखर से देख सकते हैं पूरा शहर

Updated on 22 December, 2014, 10:15
जयपुर। वैसे तो जयपुर अपने इतिहास और अपनी बेहद खूबसूरती के लिए जाना जाता है,और इसकी खूबरसूरती को चार चांद लगाते हैं यहां बनी ऎतिहासिक इमारतें। ऎसी ही एक इमारत जयपुर की सबसे ऊंची ईसरलाट मीनार है जिसे लोग आम बोलचाल की भाषा में सरगासूली कहते हैं। राजधानी के त्रिपोलिया इलाके... आगे पढ़े

कभी देखा है कृष्ण के मुकुट सा महल?

Updated on 22 December, 2014, 10:11
जयपुर। राजधानी जयपुर के भीड़-भाड़ वाले स्थान बड़ी चौपड़ पर मौजूद है भगवान कृष्ण के मुकुट जैसा दिखने वाला एक महल। यह देश ही नहीं विदेशी सैलानियों के बीच भी काफी मशहूर है। हम बात कर रहे हैं हवामहल की। जयपुर आने वाला कोई भी पर्यटक इसे देखे बिना नहीं रहता और... आगे पढ़े

ताज देख अभिभूत हुए बांग्लादेशी राष्ट्रपति

Updated on 21 December, 2014, 11:39
आगरा। भारत दौरे पर आए बांग्लादेशी राष्ट्रपति मोहम्मद अब्दुल हामिद शनिवार को प्रेम के प्रतीक ताजमहल को देख अभिभूत हो गए। उन्होंने विजिटर बुक में लिखा, "विश्व में स्थापत्य कला की अद्भुत निशानी को देख मुझे बेहद खुशी हो रही है। सच्चे प्रेम की याद में एक शहंशाह द्वारा बनवाई गई... आगे पढ़े

हवेली के लोगों ने किया जयपुर का नाम रोशन

Updated on 21 December, 2014, 9:48
जयपुर। क्या आप जानते हैं कि जयपुर में एक ऎसी भी हवेली है जिसकी हर सुबह और शाम संगीत के अलग-अलग सुरों से गुलजार होती है। इस हवेली की मिट्टी में ही वो बात है कि यहां जन्मा हर बच्चा बोलने के साथ ही संगीत के सुर गाने लगता है। इस हवेली... आगे पढ़े

इस वजह से जयपुर को कहा जाने लगा "पिंक सिटी"

Updated on 21 December, 2014, 9:46
जयपुर। अपनी गुलाबी रंगत से लोगों का मन मोहने वाले जयपुर शहर को "गुलाबी नगरी" भी कहा जाता है। इस शहर को गुलाबी नगर क्यों कहा गया, इसके पीछे भी एक कारण छिपा हुआ है। कहा जाता है कि यह शहर शुरू से ही गुलाबी नगर नहीं था बल्कि अन्य सामान्य... आगे पढ़े

इस मंदिर में होता है नेत्ररोग का समाधान

Updated on 20 December, 2014, 10:04
कोणार्क का सूर्य मंदिर ओडिसा की राजधानी भुवनेश्वर से 65 किलोमीटर दूर है। यह सूर्य मंदिर अपने समय की उत्कृष्ट वास्तु रचना है।सूर्य को ऊर्जा, जीवन और ज्ञान का प्रतीक माना जाता है। इसे 'अर्कक्षेत्र' भी कहा जाता है इसी जगह महर्षि कश्यप और मां अदिति ने तपस्या करके सूर्यदेव को... आगे पढ़े

पर्यटन की राह में रोड़ा बना रोपवे

Updated on 19 December, 2014, 10:16
गोपेश्वर। विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल औली में रोपवे की मरम्मत में हो रही देरी से पर्यटन महकमे की किरकिरी हो रही है। चार साल के लंबे अंतराल में रोपवे की मरम्मत को पूरा करने को लेकर बार-बार दी गई अंतिम तिथि पर ठेकेदार खरे नहीं उतर रहे। हालांकि पर्यटन विभाग... आगे पढ़े